किसानों के ‘कल’ को सुरक्षित करने की हर कोशिश करूंगा : राहुल गांधी

0
60

नई दिल्ली। 2019 में होने वाले लोकसभा का सेमीफाइनल माने जाने वाले हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा के हाथ से तीन राज्य छीनने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का हौसला बढ़ गया है। यह नब्ज उनके समझ में आ गयी है कि देश की धुरी किसान ही हैं। इसलिए उन्होंने किसान को ही अपनी राजनीति का केन्द्र बिन्दु बना लिया है। तीन राज्यों में कांग्र्रेस की लंबे समय बात वापसी के पीछे कृषि ऋण माफी की घोषणा को मूल मंत्र माना जा रहा है। ऐसे में 23 दिसंबर को जब देश पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती किसान दिवस के रुप में मना रहा था तो उस दिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों के सुरक्षित भविष्य की चिंता को लेकर फिर अपना संकल्प दुहराया। उन्होंने चौधरी चरण सिंह की जयंती पर किसानों की दशा का जिक्र करते हुए ट्वीट किया कि ‘हमारे किसानों के आने वाले कल को सुरक्षित करने के लिए मैं वो हर कोशिश करने वाला हूँ जिससे उनका भविष्य सुरक्षित बनें। यह सिर्फ वादा नहीं है, कर्तव्य भी है मेरा। किसान दिवस के अवसर पर देश के किसानों को सलाम, आप हो तो हम हैं’। राहुल गांधी के इस ट्वीट को समाचार लिखे जाने तक 3350 लोगों ने री-ट्वीट किया था, 12129 लोगों ने लाइक किया था और 1800 से अधिक लोगों ने कमेंट लिखे थे। किसानों के हितैषी माने जाने वाले पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती पर राहुल गांधी ने किसानों के भविष्य को बेहतर बनाने का संकल्प लेकर इस बात का स्पष्ट संकेत दे दिया है कि 2019 में होने वाले लोकसभा के रण में किसानों का मुद्दा प्रमुख रहेगा।
छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान की भूमिका निर्णायक
छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान तीन ऐसे राज्य हैं जहां सम्पूर्ण उत्तर भारत के नागरिकों का आना जाना रहता है। इनमें सर्वाधिक किसान वर्ग से जुड़े लोग ही संबंधित हैं। ऐसे में इन तीनों राज्यों में किसानों की बेहतरी को लेकर कांग्रेस सरकार द्वारा उठाये गये कदम का असर अन्य राज्यों की राजनीति पर पड़ेगा। साफ है कि इन तीन राज्यों में स्थानीय कांग्रेस की सरकारों ने किसानों के हित में काम किया तो उसका व्यापक प्रभाव लोकसभा के चुनाव में देखने को मिलेगा।