जहां कोई दरिद्र ना हो ,दुखी ना होऔर दीन न हो ऐसा रामराज चाहिए : ओमप्रकाश पांडे

0
31

प्रतापगढ़। सम्यक सेवा संस्थान ग्राम मुलानी प्रतापगढ़ में सद्भावना दिवस के पावन अवसर पर जनपद में शांति सुरक्षा एवं भाईचारे हेतु राम चरित मानस के सुंदरकांड के पाठ का आयोजन हुआ। धर्माचार्य ओमप्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास द्वारा उक्त अवसर हर जाति ,धर्म, वर्ग के गरीब महिला पुरुष को कंबल एवं हनुमान चालीसा वितरण किया गया । इस कड़कती ठंड में कंबल पाकर लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ गयी। उक्त अवसर पर उन्होंने कहा हमारा सनातन धर्म समस्त विश्व के कल्याण के लिए कार्य करता है। धर्म सम्राट स्वामी करपात्री जी महाराज ने कहा है विश्व का कल्याण हो, भारत अखंड हो यही स्वामी जी का सपना था ।मुझे ऐसा रामराज चाहिए जिसमें “नहीं दरिद्र कोऊ दुखी न दीना” और हमारे शास्त्र भी कहते हैं “सर्वे भवंतु सुखिनः सर्वे संतु निरामया:” हमें गरीबों की सेवा भेदभाव भूल करके करनी चाहिए। सनातन धर्म की मान्यताओं का लोग कभी-कभी मजाक उड़ाते हैं ।सनातन धर्म कहता है “सर्वे जना: सुखिनो भवंतु” जो जैसा है उसे वैसे ही स्वीकार कर बंधुत्व बनाए रखने की बात सिर्फ वैदिक सनातन धर्म में ही है ।गरीबों की सेवा परम धर्म है ।उक्त अवसर पर प्रयागराज से पधारे श्री कृष्ण चाकर व्यास जी ने कहा कि भगवान की कृपा सब पर बराबर बरसती है ।वह किसी को देख कर अपनी कृपा नहीं बरसाते। प्राप्त करना या न करना जीव का कर्तव्य है। उक्त अवसर पर कृष्ण कांत मिश्रा, पंडित रामराज पांडे ,डॉक्टर शिवेशानंद ,संतोष तिवारी एडवोकेट (निशुल्क), संतोष पांडे,आचार्य कमलेश तिवारी,गिरीश दत्त मिश्रा, कृष्ण मुरारी पांडे ,पंडित लाल बिहारी ओझा ,अतुल पांडे, कैलाश गिरी ,अरुण सिंह ,सुधाकर सिंह, सर्वेश पांडे, कृष्ण मुरारी शुक्ला ,राजदेव पांडे, प्रवीण मिश्रा ज्योतिषाचार्य, राजदेव पांडे सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित रहकर अपने विचार व्यक्त किए और जनपद प्रतापगढ़ के लिए मंगल कामना किया।