कभी भुलाये नहीं जा सकेंगे रामकथा मर्मज्ञ राजेश्वरानंद : ओमप्रकाश पांडे

0
140

प्रतापगढ़। सर्वोदय सद्भावना संस्थान द्वारा श्री हनुमान मंदिर ट्रेजरी चौराहा के पास दिव्यात्मा परम संत स्वामी राजेश्वरानंद रामायणी (राजेश सरस) के परम पद गमन पर श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर राजेश्वरानंद के चित्र पर अश्रुपूरित पुष्पों से श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए धर्माचार्य ओम प्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास ने कहा कि राजेश्वरानंद सनातन धर्म के गौरव थे। भगवान सीता राम की कथा का अपनी सरस वाणी गुणनुवाद कर जिस तरह से उन्होंने धर्म को जन-जन तक पहुंचाने का कार्य किया वह कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। श्री पाण्डेय ने बताया कि राजेश्वरानंद के मुख से कही रामकथा को सुनने के लिए कृष्ण चंद्र शास्त्री ठाकुर , मुरारी बापू, पाराशर जी महाराज, पुंडरीक स्वामी महाराज जैसे महान कथावाचक भी लालायित रहते थे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने व्यक्तिगत रूप से राजेश्वरानंद को सम्मानित किया था। श्री पाण्डेय ने बताया कि उत्तर प्रदेश की पवित्र धरती उरई के ब्राह्मण वंश परिवार में अवतरित हुए राजेश्वरानंद बचपन से ही भगवान राम के प्रति अनुरागी रहे। वह कथा को प्राथमिक विद्यालय में भी चौपाइयों के द्वारा बच्चों को श्रवण कराते थे। श्री पाण्डेय ने बताया कि राजेश्वरानंद का परमपद गमन भी धर्मावलंबियों के बीच उदाहरण बन गया है। राजेश्वरानंद का जिस दिन परमपद गमन हुआ उस दिन वह छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के स्वामी विवेकानंद आश्रम में श्रद्धालुओं को राम कथा का रसपान कराकर आराम करने पहुंचे थे। यह भी एक संयोग रहा कि राम कथा में उस दिन राजेश्वरानंद ने चक्रवर्ती राजा दशरथ द्वारा भगवान राम के वियोग में प्राण त्याग देने की कथा का रसपान श्रद्धालुओं को कराया था और उसी रात हृदयाघात पड़ने से उनका परमपद गमन हो गया। अंत में 2 मिनट का मौन रखकर आत्मा की शांति हेतु भगवान से प्रार्थना करते हुए लोगों ने उन्हें मानस मर्मज्ञ के रूप में याद करने का संकल्प लिया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से डॉक्टर शिवेशानंद , आचार्य कमलेश तिवारी, आचार्य आलोक ज्योतिषी, पंडित गोविंद प्रसाद मिश्र , प्रवीण पांडे पुजारी , आचार्य चंद्रिका प्रसाद , आचार्य अभय कुमार पांडे , गिरीश दत मिश्रा, बद्री प्रसाद मिश्रा, सुरेश नारायण दुबे, केशव प्रसाद मिश्रा एडवोकेट, चिंतामणि पांडे एडवोकेट, मनीष शर्मा, राधेश्याम माली ,लोक गायक रविशंकर मिश्रा ,संगम लाल त्रिपाठी भंवर, पत्रकार राजन सहित अनेक लोगों ने उपस्थित होकर अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किए।