समाज के हर क्षेत्र को जोड़ने वाला रहा स्वामी विवेकानंद का चिंतन : डा. सुधा

0
59

जौनपुर। नेहरू युवा केन्द्र जौनपुर द्वारा जन शिक्षण संस्थान जौनपुर के सहयोग से जन शिक्षण संस्थान के परिसर में युग पुरूष स्वामी विवेकानंद जी के जन्म दिवस को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप मे मनाया गया। सर्वप्रथम स्वामी विवेकानंद जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ संस्थान की निदेशक डा. सुधा सिंह, भोजपुरी देवीगीत गायक स्व. राकेश पाठक के अनुज अवधेश पाठक, देवीगीत गायक बिपुल चौबे, जेपीसी कम्प्यूटर के निदेशक अजीत सिंह, नेहरू युवा केन्द्र के जिला समन्वयक अभय पाठक, स्पीक वेल इगलिश एकेडमी के निदेशक प्रदीप यादव, सामाजिक कार्यकर्ता विपिन पाण्डेय एवं जन शिक्षण संस्थान के स.का. अधिकारी विनोद मिश्रा ने सामूहिक रूप से किया।
मुख्य अतिथि के रूप में संस्थान की निदेशक डा. सुधा सिंह ने स्वामी जी के प्रति श्रद्वा का भाव अर्पित करते हुए कहा कि स्वामी विवेकानंद जी का जीवन हर दृष्टि से समाज को जोडऩे व दिशा प्रदान करने वाला रहा युवाओं को स्वामी जी के बताए गए मार्गों से प्रेरणा लेनी चाहिए। डा. सुधा सिंह ने स्वामी जी के एक संस्मरण का दृश्टान्त देते हुए कहा कि स्वामी जी ने कहा है कि व्यक्ति जब तक जीता है तब तक सीखता है और अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है।
विशिष्ट अतिथि के रूप में भोजपुरी देवी गीत गायक अवधेश पाठक व बिपुल चौबे ने स्वामी जी के जीवन पर अपनी स्वरचित गीतों के माध्यम से श्रद्वांजलि अर्पित करते हुए युवाओं को प्रेरित किया।
इसी क्रम में जिला कार्यक्रम समन्वयक नेयुके अभय पाठक ने नेहरू युवा केन्द्र की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए राष्ट्रीय युवा सप्ताह अन्तर्गत संपादित किए जाने वाले कार्यक्रमों पर चर्चा की। तदुपरान्त अजीत सिंह, विनोद मिश्रा, विपिन पाण्डेय व अलग-अलग विकास खण्ड से आए हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवको ने भी स्वामी विवेकानंद जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि स्वामी जी का पूरा जीवन सादगी भरा रहा वह पिताजी की इच्छाओं के विपरीत भारतीय संस्कृति व भारतीयता को प्रमुखता पर रखते हुए वर्ष 1893 के विश्व धर्म महासभा मे भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व कर भारत का गौरव बढाया। हमे उनके बताए गए मार्गों पर चलकर राष्ट्र की एकता व अक्षुण्णता को बनाए रखना ही जन्मदिवस की सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
कार्यक्रम का सफल संचालन राज्य प्रशिक्षक नेहरू युवा केन्द्र व जन शिक्षण संस्थान के कार्यक्रम अधिकारी अखिलेश पाण्डेय ने किया। आभार नेयुके के लेखाकार सुरेन्द्र बहादुर सिंह ने प्रकट किया। कार्यक्रम में युवा अर्पित यादव, मुस्कान तिवारी, युविका तिवारी, रचना गौतम व नेहा जायसवाल ने भी स्वामी जी की जीवनी के संस्मरण पर अपने-अपने विचारों को रखा।