बच्चों में सहायता, सद्भावना व सौहार्द के गुणों को विकसित करें

0
43

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर आॅडिटोरियम में आयोजित विश्व एकता सत्संग में बोलते हुए बहाई धमार्नुयायी, प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापिका-निदेशिका डा. (श्रीमती) भारती गाँधी ने शिक्षकों व अभिभावकों का आह्वान किया कि बच्चों में प्रारम्भ से ही एक-दूसरे के लिए सहायता, सद्भावना व सौहार्द के गुणों को विकसित करें क्योंकि ये सभी ईश्वरीय जीवन मूल्य हैं, जिन्हें आत्मसात करके ही विश्व मानवता का विकास, उत्थान व कल्याण संभव है। डा. गाँधी ने कहा कि सी.एम.एस. प्रारम्भ से ही अपने छात्रों को जय जगत की भावना से अवगत करा रहा है। हमें प्रत्येक व्यक्ति से जग जगत कहना होगा और दूसरे के लिए हित के अपने हित का त्याग करने को तत्पर होना पड़ेगा, तभी इस धरती पर एकता व शान्ति का परचम लहरायेगा और दुनिया में खुशहाली आयेगी। डा. जगदीश गाँधी जी दिन-रात इस लक्ष्य हेतु प्रयास करते रहते हैं और सी.एम.एस. के सभी 57000 छात्र व शिक्षक विश्व एकता, विश्व शान्ति एवं बच्चों के लिए सुरक्षित व खुशहाल भविष्य की कामना करते हैं। इससे पहले, सी.एम.एस. शिक्षकों द्वारा प्रस्तुत सुमधुर भजनों से विश्व एकता सत्संग का शुभारम्भ हुआ, जिन्होंने बहुत ही सुमधुर भजन सुनाकर सम्पूर्ण वातावरण को आध्यात्मिक उल्लास से सराबोर कर दिया। विश्व एकता सत्संग में आज सी.एम.एस. अलीगंज (द्वितीय कैम्पस) के छात्रों ने एक से बढ़कर एक शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति से उपस्थित सत्संग प्रेमियों को मंत्रमुग्ध कर दिया। छात्रों ने स्कूल प्रार्थना से कार्यक्रम की शुरूआत करके भक्ति गीत ह्यसुबह सवेरे लेकर तेरा नाम प्रभुह्ण प्रस्तुत करके खूब वाहवाही बटोरी। इसके अलावा, छात्रों ने सद्विचार, लघु नाटिका, नृत्य व संगीत के सुमधुर प्रस्तुतिकरण से सभी को खूब लुभाया। इस अवसर पर कई विद्वजनों ने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सत्संग का समापन संयोजिका श्रीमती वंदना गौड़ द्वारा धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here