आत्मविश्वास से आगे बढ़ते बच्चे देश और समाज की ताकत

0
20

रायपुर। यूनिसेफ छत्तीसगढ़ एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के संयुक्त आयोजन में एक दिवसीय बाल मेला का आयोजन प्रेक्षागृह, पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय में किया गया। जिसमें एन.एस.एस. के बच्चों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महापौर प्रमोद दुबे ने कहा कि बच्चे अपने आत्मविश्वास की कमी को दूर करें और राष्ट्रीय हित में आगे आकर कार्य करें साथ ही अपने तार्किक क्षमता की खुद से पहचान करें तथा अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहें। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे प्रोफेसर केसरी लाल वर्मा कुलपति, पंडित रविशंकर शुक्ल विश्विद्यालय ने कहा कि यूनिसेफ छत्तीसगढ़ एवं राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा आयोजित बच्चों के स्वास्थ्य, सुरक्षा, संरक्षण पर आधारित कार्यक्रम में रविशंकर विश्वविद्यालय को भी शामिल किया गया है जिसमें समाज के लिये कुछ बेहतर करने के लिये बच्चों को अवसर प्रदान किया जाएगा। इसके माध्यम से वे गाँव व बस्ती में जाकर बच्चों के साथ उनके माता-पिता को भी जागरूक करेंगे। उनके सुख-दु:ख में भागीदार बनकर, उनके साथ सामंजस्य बिठाकर उन्हें अपने अधिकारों के प्रति सचेत करेंगे। उन्होंने कहा कि बच्चे शिक्षा से तो जुड़े रहते हैं लेकिन उचित मार्गदर्शन प्राप्त न होने से उनमें नैतिक गुणों का विकास नही हो पाता। एन.एस.एस. के बच्चे ट्रेनिंग के माध्यम से उन तक पहुँच कर उन्हें बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे जिससे राष्ट्र हर तरीके से उन्नत हो। बच्चे पढ़ाई के साथ सामाजिक कार्य भी करेंगे जिसका प्रभाव समाज के साथ राष्ट्र में भी पड़ेगा। कार्यक्रम की संयोजिका सुनीता चंसोरिया ने बताया कि 19, 20 और 21 जनवरी को रायपुर नगर के 15 बस्ती और 23 गाँव में जाकर बच्चों को बाल अधिकार के बारे में जागरूक कर उन्हें जानकारी प्रदान करेंगे। इस दौरान स्वच्छता संबंधी संदेश आम लोगों को देकर इसके महत्व को समझाया जाएगा। यह कार्यक्रम छत्तीसगढ़ के 13 जिलों में आयोजित की जा रही है। इस अवसर पर कार्यक्रम समन्वयक नीता बाजपेयी, यूनिसेफ से श्याम सुंदर बंडी सहित अन्य सदस्य मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन ऋतुजा शर्मा ने किया।