छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा दिलाने करेंगे प्रयास

0
14

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को बिलासपुर में पद्मश्री अलंकरण से सम्मानित स्वर्गीय पंडित श्यामलाल चतुवेर्दी के निवास पहुंचकर उनके परिवारजनों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर श्यामलाल चतुर्वेदी को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि श्री चतुर्वेदी के सपनों को पूरा करने के लिए तथा छत्तीसगढ़ी को राज भाषा का दर्जा दिलाने और आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए हम सब मिलकर प्रयास करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री चतुर्वेदी ने जीवन भर छत्तीसगढ़ी भाषा और छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा की है। छत्तीसगढ़ी मीठी भाषा है और स्व. चतुर्वेदी पुराने से पुराने छत्तीसगढ़ी शब्दों को पिरोकर इस गुरतुर भाषा का प्रयोग करते थे। श्री बघेल ने स्व. चतुर्वेदी जी निवास की कॉलोनी चितले के प्रवेश द्वार का नामकरण श्री चतुर्वेदी के नाम पर करने हेतु प्रस्ताव बनाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। इस अवसर पर तखतपुर विधायक श्रीमती रश्मि सिंह, स्व. चतुर्वेदी के पुत्र शशिकांत चतुर्वेदी और सूर्यकांत चतुर्वेदी तथा अन्य परिजन उपस्थित थे।