मानव तस्करी में लिप्त लोगों पर कार्यवाही ना होने पर पत्रकार अमृता राय ने उठाए सवाल

0
58

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता राय ने मानव तस्करी में लिप्त अपराधियों पर किसी प्रकार की कार्यवाही ना होने पर सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया है। अमृता राय रविवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा परिसर में स्थित ऑडिटोरियम में पत्रकार प्रियंका कौशल द्वारा लिखी गई पुस्तक नरक के विमोचन अवसर पर बोल रही थी। उन्होंने कहा कि देश में मानव तस्करी एक बड़ी समस्या के रूप में लोगों के सामने हैं। इसके पीछे कौन से लोग लिप्त हैं। इसकी भी जानकारी जिम्मेदार लोगों तक है किंतु दुखद पहलू यह है कि ऐसे लोगों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं होती जो इस अमानवीय कार्य में लिप्त हैं। वरिष्ठ पत्रकार अमृता राय ने इसी तरह के कई और भी सवाल उठाए। उन्होंने उपस्थित लोगों से अपील किया कि वे इस दिशा में आगे बढ़ कर आएं और अमानवीय कार्य करने वालों के विरुद्ध आवाज उठाएं। प्रियंका कौशल की पुस्तक नरक में बस्तर के कांकेर जिले के सुदूर गांव में रहने वाली राजेश्वरी सलाम नाम की लड़की की कहानी लिखी गई है जिसे मानव तस्करों ने अपना शिकार बना लिया था और तमिलनाडु में ले जाकर उसे बेंच दिया था। राजेश्वरी ने अपने प्रयासों से न केवल खुद को मानव तस्करों के चंगुल से मुक्त कराया बल्कि बस्तर की 60 अन्य लड़कियों को भी मुक्त कराया जो मानव तस्करों का शिकार बन चुकी थी। इस कार्यक्रम में उपस्थित विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने उदारवादिता का परिचय देते हुए पीड़ित लड़की राजेश्वरी को विधानसभा परिसर में ही भृत्य की नौकरी देने की अनुशंसा की।