मुंगेली में करोड़ों की लागत से तैयार सरकारी मकान बना खंडहर

0
95

मुंगेली। छत्तीसगढ़ गृहनिर्माण मंडल के अफसरों की लापरवाही के चलते सैकड़ों सरकारी आवास लोगों के रहने से पहले ही खंडहर में तब्दील हो गया है। मामला बिलासपुर संभाग के मुंगेली जिले से 3 किलोमीटर ग्राम पंचायत सुरदा में बने अटल आवास का है। यहां गृह निर्माण मंडल के द्वारा 114 मकान बनाया गया है । जिसकी लागत करोड़ो में बताई जा रही है। 114 मकान में एक ही परिवार रहता है। एक मकान की कीमत 1लाख 24 हजार है ,उसमे से 50 हजार अनुदान है । 2014 में मकान बनकर तैयार हुआ था। सभी मकानों को आबंटित कर दिया गया है।114 मकान में सिर्फ 12 से 14 लोग ही पूरा पैसा दिये हैं। लग भाग 100 लोगो का पैसा 3 से 6 हजार ही मिला है। 6 साल से बना मकान आज की तिथि में रहने लायक नही बचा है।

मकान खंडहर के रूप में तब्दील हो गया है। मकान को कोई देखने वाला भी नही है और दूसरी तरफ गृह निर्माण मंडल विभाग वाले हाऊसिंग बोर्ड मकान बनाने के लिए जगह भी खोज रहे है। प्राप्त राशि का बंटाधार कैसे करना है यह तो कोई छत्तीसगढ़ गृहनिर्माण मंडल से पूछिए जिनके द्वारा कराए गए कार्य मकान निर्माण 114 मकान खंडर हो चुका है ,अधिकारियों को तो स्थलों का निरीक्षण नही करने से कम से कम एक बात स्पष्ट है कि उक्त मकान निर्माण ना तो जनहित को देखते हुए हुआ है और ना ही लोगों की आशियाना देने की मंशा से हुआ है। यह तो सिर्फ हाऊसिंग बोर्ड की आड़ में शासन को बेवकूफ बनाने का काम किया गया है। इसके बाद भी शाशन के अधिकारी राशि दोनों हाथों से सौप रहे हैं। इस संबंध में कलेक्टर डॉक्टर सर्वेश्वर नरेंद्र भूरे से बात की गई तो उन्होंने प्रकरण की जांच कराने की बात कही है।