अंतत: प्रयागराज में सक्रिय हुए प्रमोद तिवारी, चुनाव मैदान में उतरने की है चर्चा

0
192

प्रयागराज। कांग्रेस सीनियर लीडर प्रमोद तिवारी अंतत: प्रयागराज में सक्रिय होते नजर आ रहे हैं। इस बार इलाहाबाद संसदीय सीट से उनके कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने की संभावनाएं नजर आ रही हैं। हलांकि कुछ दिन पहले उन्होंने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। पर अचानक शुक्रवार को उन्होंने प्रयागराज स्थित अपने आवास पर पत्रकार वार्ता बुलाई तो एक बार फिर उनके चुनाव लड़ने की चर्चाएं तेज हो गयी है। श्री तिवारी ने पत्रकारों से कहा कि हिंदुस्तान को आजाद कराने का श्रेय अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी को है तथा आजादी दिलाने का काम कांग्रेस पार्टी ने किया है, मोदी ने नहीं किया। श्री तिवारी ने पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा अगर प्रियंका गांधी जल मार्ग से आ रही हैं और उसका श्रेय भारतीय जनता पार्टी लेना चाहती तो यह घिनौनी हरकत है। श्री तिवारी ने कहा कि आप सब भाजपाइयों से पूछे एयर स्ट्राइक में उपयोग में लाये गए एरोप्लेन किसने बनवाए, ट्रेन किसके जमाने में चली और यही नहीं देश का लोकतंत्र आजादी की लड़ाई लड़कर किसने दिया जो आज मोदी जी लोकतांत्रिक व्यवस्था के अंतर्गत चुनाव लड़कर प्रधानमंत्री बन गए, यह किसकी देन है। श्री तिवारी ने कहा कांग्रेस ने पूरे सेवा भाव से देश की सेवा की है और पूरा गांधी परिवार देश के लिए अंतिम सांस तक संघर्ष करते हुए शहादत दिया है जिसका देश में कोई विकल्प नहीं है और ना ही हो सकता है। प्रियंका गांधी के प्रयागराज आगमन के सवाल पर कहा कि जैसे ही उनका कार्यक्रम निर्धारित होगा आप सबको सूचित करूंगा। इस सवाल पर कि कांग्रेस की चुनावी रणभेरी आनंद भवन से प्रियंका गांधी के द्वारा किये जाने के सवाल पर कहा कि ऐसा अगर प्रियंका गांधी जी कर रही है तो आनंद भवन उनके पूर्वजों व देश की आजादी की अमूल्य धरोहर है। उनका कदम सराहनीय है। आनंद भवन की माटी को सर माथे पर रखकर अभियान का शुभारंभ करने पर यदि कार्यकर्ता अत्यंत उत्साहित है तो मैं उसका स्वागत करता हूं। मोदी सरकार पर प्रहार करते हुए पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी ने कहा कि मोदी सरकार ने चुनाव से पहले जो वादे किए थे उसका उसको पूरा नहीं किया। बेरोजगारी, गुंडागर्दी, किसानों की परेशानी से सरकार का कोई वास्ता सरोकार नहीं है। युवा, किसान और मजदूर परेशान है उनकी कोई सुनने वाला नहीं है। इस मौके पर पूर्व विधायक विजय प्रकाश, सुधाकर तिवारी, मुकुंद तिवारी, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष बृजेंद्र मिश्रा, मीना रानी, मोहनलाल, नफीस अहमद, बालेंद्र मिश्रा, धीरेन तिवारी सहित अनेक लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट : उमेश पाण्डेय