वेंकैया और कैप्टन अमरिंदर ने रखी करतारपुर साहिब गलियारा की आधारशिला

0
32

गुरदासपुर। उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को करतारपुर साहिब गलियारे की आधारशिला रखी। सिख श्रद्धालुओं के लिए इस गलियारे के रास्ते पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब जाना सुगम हो जायेगा। गलियारे के निर्माण का फैसला 22 नवंबर को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिया था। गलियारे का निर्माण गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक किया जायेगा। करतारपुर पाकिस्तान के पंजाब में नरोवाल जिले के शकरगढ़ में स्थित है। सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानकदेव ने अपने जीवन के 18 वर्ष यहां बिताये थे। करतारपुर साहिब गुरुद्वारा पाकिस्तान की सीमा से करीब तीन से चार किमी की दूरी पर रावी नदी के तट पर स्थित है। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गलियारे का निर्माण कार्य चार महीने के भीतर पूरा हो जायेगा। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल, हरदीप सिंह पुरी और विजय सांपला भी मौजूद थे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पाकिस्तान की ओर करतारपुर गलियारे के निर्माण के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम का उद्घाटन 28 नवंबर को करेंगे।

कैप्टन अमरिंदर ने दी पाक को चेतावनी
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने को लेकर पाकिस्तान और उसके सेना प्रमुख को सोमवार को आड़े हाथ लिया। उन्होंने इमरान खान नीत सरकार को चेतावनी दी कि यदि भारत के खिलाफ हिंसा पर रोक नहीं लगायी गयी तो उसे गंभीर अंजाम भुगतना होगा। सेना के अधिकारी रह चुके सिंह ने खान से पाकिस्तानी सेना पर लगाम कसने और भारतीय सशस्त्र बलों एवं नागरिकों के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियां फौरन बंद करने को कहा। गलियारे के शिलान्यास समारोह में 28 नवंबर को पाकिस्तान नहीं जाने का अपना रुख दोहराते हुए सिंह ने कहा कि जब बेकसूर भारतीय नागरिक और सैनिक हर दिन मारे जा रहे हैं, तो ऐसे में वह वहां कैसे जा सकते हैं? कांग्रेस नेता अमरिंदर ने कहा, मैं (करतारपुर गलियारा के लिए) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का शुक्रिया अदा करता हूं। साथ ही, उनके (पाकिस्तान के) थलसेना प्रमुख से कुछ कहना चाहता हूं। मैं भी सेना में रहा हूं और जनरल बाजवा इस मामले में मुझसे काफी कनिष्ठ हैं। जब हम (कैप्टन) सेना में थे, देश की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोच्च थी। उन्होंने कहा, लेकिन सेना में आपको यह कौन सिखाता है कि आप सीमा पर हमारे सैनिकों की हत्या करिये? आप स्नाइपर से हमारे जवानों को मारते हैं। क्या आपको कभी बताया गया है कि आपने पठानकोट, दीनानगर में लोगों को मारा? उन्होंने पठानकोट एयरबेस में 2016 में और दीनानगर तथा गुरदासपुर में 2015 में हुए आतंकी हमलों का जिक्र करते हुए यह बात कही।