बीएचयू में छात्रों ने प्रोफेसर को पीटा, पहनाई चप्पलों की माला

0
44

लखनऊ। बीएचयू में समाजशास्त्र विभाग के एक असिस्टेंट प्रोफेसर को सोमवार को छात्रों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा और चप्पलों की माला पहना दी। आपत्तिजनक हरकत का आरोप लगाते हुए छात्रों ने क्लॉस में पढ़ा रहे प्रोफेसर मनोज कुमार को पहले बाहर निकाला, फिर पीटते हुए हिंदी भवन चौराहे तक ले गए। सुरक्षाकर्मियों ने प्रोफेसर को छात्रों के चंगुल से छुड़ाया और प्राक्टोरियल बोर्ड ले आए। पिटाई से घायल प्रो. मनोज का उपचार बीएचयू के ट्रामा सेंटर में हुआ। प्रो. मनोज तथा सामाजिक विज्ञान संकाय के 54 छात्र-छात्राओं की तहरीरों पर लंका थाने में क्रॉस एफआईआर दर्ज हुई है। लंका थानाध्यक्ष भारत भूषण तिवारी ने बताया कि प्रो. मनोज वर्मा की तहरीर पर एक नामजद तथा अन्य अज्ञात के खिलाफ मारपीट व एसीएसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। विभाग के 54 छात्र-छात्राओं की तहरीर पर प्रो. मनोज के खिलाफ भी छेड़खानी, मारपीट का मुकदमा दर्ज हुआ है। प्रो. मनोज ने अपनी शिकायत में विभाग के ही एक प्रोफेसर पर सजिश करने का आरोप मढ़ा है। समाज विज्ञान संकाय के छात्र-छात्राओं ने बीएचयू के कुलपति प्रो. राकेश भटनागर को भी पत्र दिया है जिसमें प्रो. मनोज पर पढ़ाने के दौरान किए जाने वाले कमेंट का जिक्र करते हुए उन्होंने न्याय की गुहार लगाई है।
विश्वविद्यालय ने गठित की जांच कमेटी
चीफ प्रॉक्टर प्रो. रोयाना सिंह ने बताया कि इस मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। एक सप्ताह के भीतर कमेटी अपनी रिपोर्ट कुलपति को सौंपेगी। सूत्रों के अनुसार असिस्टेंट प्रोफेसर मनोज कुमार वर्मा की न तो छात्र-छात्राओं से बनती है और न ही विभाग के अन्य प्रोफेसरों से। प्रो. मनोज ने तीन दिन पूर्व फेसबुक पर विभाग के ही एक वरिष्ठ प्रोफेसर और छात्रा की फोटो के साथ आपत्तिजनक कमेंट पोस्ट किया था। कहा जा रहा है कि इसी बात से नाराज कई छात्रों ने मनोज कुमार को पीट दिया।